आजाद भारत के इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी गिरावट - डॉ. संदीप कटारिया


क्राइम रिफॉर्मर एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. संदीप कटारिया ने बताया कि रोजगार के मोर्चे पर पिछले 6 साल में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 6 साल में रोजगार के आंकड़ों में 90 लाख की गिरावट आई है। आजाद भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार है, जब रोजगार के मोर्चे पर इतना बड़ झटका लगा है। दरअसल यह रिपोर्ट अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के सेंटर ऑफ सस्टेनेबेल इम्प्लॉयमेंट की तारीफ से प्रकाशित की गई है। जिसमें कहा गया है कि साल 2011-12 से 2017-8 के बीच भारत में रोजगार के अवसरों में बड़ी गिरावट आई है।



डा. कटारिया ने रोजगार के मोर्चे पर झटका देते हुए बताया कि जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में अर्थषास के प्रोफेसर संतोश मेहरोत्रा आथ्र सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ पंजाब में कार्यरत जेके परिश न तैयार किया हैं इन दोनेां के मुताबिक साल 2011-12 से 2017-18 के बीच कुल रोजगार में 90 लाख की कमी आई है।
इससे पहले सेंटर फॉर मानिटरिंग के बीच करीब 40 करोड़ से 49 लाख लोगों के पास नौकरियांथी। जबकि पिछले साल इसी दौरान 40 करोड़ 24 लाख लोगों के पास नौकरी थी। यानि  ब्डप्म् के आंकड़े बताते है। कि रोजगार के मोर्चें पर थोड़ा सुधार हुआ है।
डा. कटारिय ने बताया कि इन राज्यों में सबसे ज्यादारोजगारसंकट नौकरियां ढूंढने पर भी नहीं मिल रही है। त्रिपुरा में बेरोजगारी दूर 23.3 फीसदी रिकॉर्ड की गई है।
वही ब्डप्म् ताजा रिपोर्ट के मुताबिक भाारत में बेराजगारी दर अक्टूबर महीने में तीन लाख के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। आंकड़ों के मुताबिक पिछले महीने बेराजगारी दर 8.5 फीसदी रही जो कि अगस्त 2016 के बाद का सबसे उच्चतम स्तर है। यह इस साल सितंबर में जारी किए गए आंकड़ों से भी काफी ज्यदा हैै।


 


Popular posts